DesiIndianBhabi.com chudai, story desi kahani, hot kahani, hindi hot story, hot hindi kahani, desi hindi kahani, hindi desi kahani, desi hindi story, jija sali ki kahani, desi aunty ki chudai, desi sex stories, desi arnaz, lucille ball

Wednesday, 6 September 2017

हमेशा अपने ड्राईवर से चुदवाती हूँ


हैल्लो दोस्तों, में एक शादीशुदा 32 साल की महिला हूँ, जो हमेशा ही अपने पति के साथ रहना चाहती है, लेकिन जैसा होता है कि सभी को सब कुछ नहीं मिलता है, वैसा ही मेरे साथ भी हुआ। मेरी शादी एक ऐसे व्यक्ति से हुई, जिनका काम हमेशा ही बाहर होता है। वैसे तो में उनसे खुश थी, लेकिन उनकी यही एक बात मुझे पसंद नहीं थी इसलिए शायद मेरे साथ ऐसा हुआ। फिर एक दिन में एक पार्टी से लौट रही थी (में अक्सर पार्टी में जाया करती हूँ क्योंकि मुझे इससे अच्छा टाईम पास कोई नहीं लगता है, वहाँ मेरी कई सहेलियाँ भी मुझे मिलती है) उस दिन मेरे पति को गये हुए पाँच दिन बीत चुके थे और वो एक हफ्ते और नहीं आने वाले थे, शायद इसलिए मुझे पार्टी में रात के 12 बज गये और लौटते समय मेरी कार भी खराब हो गयी तो मेरा ड्राइवर बोला कि चलो मेडम में आपको घर छोड़ देता हूँ, वैसे भी अब थोड़ी दूर बचा हुआ है इसके बाद में कार को ठीक करवा कर सुबह आ जाऊंगा।

तो मैंने भी ठीक है कह दिया, क्योंकि वो जगह ऐसी थी जहाँ से मुझे ना तो कोई टेक्सी मिल सकती थी और ना ही कोई और साधन। फिर जैसे तैसे में घर पहुँची, तो नौकरानी ने दरवाज़ा खोला, तो तभी मैंने और ड्राइवर ने एक साथ ही पानी की फरमाइश कर दी। फिर में अपने कमरे में चली गयी और थोड़ी ही देर बाद नौकरानी वहाँ पर पानी रख गयी। फिर में अपने कपड़े बदलकर जैसे ही बाथरूम की तरफ गयी, तो ड्राइवर ने कहा कि आप मुझे कुछ रुपए दे दीजिये ताकि में कार को ठीक करा सकूँ। फिर मैंने कहा कि ठीक है और फिर में अपने कमरे में जाकर पर्स से रुपए निकालने लगी तो तभी वो पीछे मेरे कमरे में भी आ गया। फिर मैंने उसको रुपए दिए और कहा कि 10 बजे तक ज़रूर आ जाना मुझे कहीं जाना है, तो वो कुछ भी नहीं बोला और बस हाँ में अपना सिर हिला दिया।

फिर तभी नौकरानी भी वहाँ आ गयी और बोली कि मेडम में अपने कमरे में जा रही हूँ, कोई ज़रूरत हो तो रुकूँ, वैसे मैंने खाना लगा दिया है, आप खा लीजिएगा। फिर मैंने कहा कि ठीक है और फिर वो चली गयी, उसका कमरा ऊपर था। फिर जैसे ही में बाथरूम की तरफ जाने लगी तो वो ड्राइवर भी जाने लगा।  अब पहले में सोच रही थी कि शायद वो कुछ उल्टा सीधा करने की फिराक में है, लेकिन फिर मैंने  सोचा कि में ही गलत थी, लेकिन मुझे क्या पता था कि अब में ही गलत हूँ? क्योंकि फिर जैसे ही में बाथरूम से निकली और अपने कमरे में गयी तो वो वहाँ आ गया और कहा कि मेडम आप मुझे बहुत अच्छी लगती है बस एक बार मुझे आपका स्वाद ले लेने दीजिए, फिर कभी भी में आपसे कुछ नहीं कहूँगा और ना ही किसी को बताऊंगा, तो में गुस्सा हो गयी और चिल्लाते हुए कहा कि तुम……।



तो तभी उसने मेरा मुँह पकड़ लिया और मुझे बेड पर फेंक दिया और मेरी गाउन को उतारने लगा और उसने अपने एक हाथ से मेरा मुँह पकड़ रखा था। फिर तभी मैंने अपने हाथों का उपयोग करके उसको मारने की कोशिश की, लेकिन में ऐसा नहीं कर सकी। तो इस पर वो बोला कि साली रंडी ना जाने किस- किस चुदवाती होगी? और आज में एक बार के लिए कह रहा हूँ, तो मना कर रही है।  फिर मैंने सोचा कि इस तरह से तकलीफ़ उठाने से क्या फ़ायदा? मज़ा ही ले लूँ और फिर मैंने अपने हाथ उसके लंड पर लगा दिए, तो इस पर उसने मेरा मुँह तो छोड़ दिया, लेकिन अब में और भी डर गयी थी, क्योंकि उसका लंड लगभग 9 इंच लंबा और 4 इंच मोटा था। फिर मैंने कहा कि सुनो ये ठीक नहीं है और मुझे डर भी लग रहा है। फिर उसने मेरा गाउन मेरी कमर तक उठाते हुए कहा कि ठीक-वीक छोड़िए मेडम, में आपको वो मज़ा दूँगा जो आपने कभी नहीं लिया होगा, तो मैंने कहा कि लेकिन तुम्हारा बहुत बड़ा है।

फिर उसने कहा कि ये मर्द का है मेडम और आपकी कौन सी छोटी है, ना ही आप कुंवारी है, मेरी बीवी जब कुँवारी होकर झेल गयी तो आप तो झेल ही जाएगी और फिर उसने मेरी पेंटी में अपना हाथ डालकर मेरी चूत को छुते हुए कहा कि इसमें बहुत दम होता है मेडम और फिर उसने मेरी पेंटी उतार दी और अपने कपड़े उतारकर मेरे ऊपर आ गया। फिर उसने मेरा गाउन फाड़ दिया और मुझे चूमने लगा और में भी उसे चूमने लगी। अब इससे में बहुत गर्म हो गयी थी, फिर तभी उसने मेरी ब्रा भी उतार दी और मेरे बूब्स को बहुत ज़ोर जोर से दबाने लगा। फिर मैंने अपना एक हाथ उसके लंड पर रखा जो बहुत तना हुआ था। फिर मैंने कहा कि अब जल्दी करो, तो उसने मुस्कुराते हुए अपना थूक बाहर निकाला और अपने लंड पर लगाकर मेरी चूत के मुँह पर रखा और मुझे ज़ोर से पकड़ लिया, वो भी इस तरह जैसे में कोई छोटी सी चीज़ हूँ और एक ज़ोर से धक्का मारा।

अब मेरी चीख निकलने वाली थी कि तभी उसने मेरे मुँह को भी अपने मुँह से बंद कर दिया और मुझे चूमने लगा, शायद उसे पता था कि मुझे दर्द होगा और में चीखूँगी। अब में छटपटा रही थी और उसकी पकड़ से निकलना चाहती थी, लेकिन उसने मुझे इस तरह से पकड़ा था कि में नहीं निकल पाई। अब वो ज़ोर-ज़ोर से धक्के लगाकर अपना पूरा लंड मेरी चूत में डाल चुका था और फिर उसने जोर-जोर से धक्के लगाने शुरू कर दिए। फिर थोड़ी देर के बाद मुझे भी बहुत मज़ा आने लगा और मेरे मुँह से सीयी अया अया अया आ और ज़ोर से की आवाजें निकलने लगी और फिर थोड़ी देर के बाद में झड़ गयी और मेरे बाद वो भी झड़ गया। इस तरह मैंने अपने पति को धोखा दिया, लेकिन मुझे मज़ा ज़रूर आया। अब में हमेशा अपने ड्राईवर से चुदवाती हूँ और फुल मजे करती हूँ। अब मुझे पति के छोटे लंड से ज्यादा मजा ड्राईवर के मोटे लंड में आता है।
Share:
Copyright © Indian Bhabhi Hindi Incest Savita Vellamma Naughty Sex Stories | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com